Loading...

Tuesday, 10 May 2011

सच साबित हुई आशंका..........

जैसा की मैने पहले ही आशंका जताई थी, केंद्र सरकार की जांच रिपोर्ट में बिल्कुल वैसा ही तथ्य निकलकर सामने आया है। हैलीकाप्टर हादसे में अरुणाचल के मुख्यमंत्री की मौत की जांच में ये बात सामने आई है अरुणाचल प्रदेश के सीमा पर उड़ान भरने वाले विमानों की फ्रीक्वेंसी जाम कर दी जाती है, और ये सब कुछ होता है सीमा पार यानि ड्रेगन के इलाके से।
खुफिया जांच के अनुसार पिछले लंबे समय से राज्य में चीन के सीमावर्ती इलाके में उड़ने वाले हैलीकाप्टरों और छोटे विमानों के सिग्नल जाम हो जाते हैं और इससे विमान रास्ता भटक जाता है।
अरुणाचल के सीएम के हैलीकाप्टर के साथ भी कुछ एसा ही हुआ है क्योंकि केंद्र सरकार के खुफिया सूत्रों का कहना है खांडू को लेकर उड़ रहे हैलीकाप्टर की उड़ान के दौरान सीमा पार से आने वाले सिग्नलों को डिकोड किया गया है जिसमें ये आशंका जताई जा रही है कि उड़ान के दौरान पवनहंस हैलीकाप्टर को रास्ता बताने और निर्देशित करने के लिए मिलने वाले सिग्नल जाम हो गये थे और हैलीकाप्टर रास्ता भटककर दुर्घटनाग्रस्त हो गया। कैबीनेट सचिवालय ने इस मामले में सेना से भी रिपोर्ट मंगाई है।

Wednesday, 4 May 2011

अरुणाचल प्रदेश के तीन हैलीकाप्टर दुर्घटनाग्रस्त....हादसा या साजिश


अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री की हैलीकाप्टर दुर्घटना में मौत हो गई, उस इलाके में होने वाली ये तीसरी हवाई दुर्घटना है। सभी का कहना है कि ये खराब मौसम की वजह से हो रहा है...मेरी एक आशंका है..वहां से कुछ ही दूरी पर चाइना का बेस कैंप भी है, चोरी छिपे चाइना के सैनिकों ने वहां एक हवाई पट्टी भी बना ली है....अरुणाचल प्रदेश को वो अपने नक्शे में भी दिखाते हैं।मामला गंभीर है, यदि एसा ना होता तो खांडू के लापता होने के तुरंत बाद ही सोनिया गांधी यूपीए के दो मंत्रियों को जांच करने के बहाने अरुणाचल ना भेजती। बहरहाल मेरी ये बातें संभावना और संरचना के साथ लगातार उस इलाके के दुर्घटनाओं के बाद की उपज हैं, हो सकता है ये महज एक सोच हो, या फिर कुछ और.........आप का क्या कहना है